प्रशांत किशोर का तंज, विडंबना है कि अखबारों से मुझे पता चलता है, मैं कहां काम कर रहा