लोकसभा में वोट देने वालों को अपने परिवार का हिस्सा बनाएगी भाजपा
Latest News
bookmarkBOOKMARK

लोकसभा में वोट देने वालों को अपने परिवार का हिस्सा बनाएगी भाजपा

By Jagran calender  19-Jul-2019

लोकसभा में वोट देने वालों को अपने परिवार का हिस्सा बनाएगी भाजपा

हरियाणा के लोकसभा चुनाव में करीब 52 फीसदी वोट हासिल करने वाली भाजपा अपना परिवार और बढ़ाना चाहती है। इसके लिए पार्टी ने राज्य में 20 से 22 जुलाई तक लगातार तीन दिन तक विशेष ड्राइव (अभियान) चलाने का निर्णय लिया है। इन तीन दिनों में भाजपा करीब सात लाख नए सदस्य अपनी पार्टी के साथ जोड़ऩे का इरादा रखती है। फिलहाल भाजपा के पास 33 लाख सदस्यों का भरा-पूरा बड़ा परिवार है। भाजपा की रणनीति लोकसभा चुनाव में वोट देने वाले लोगों को अपने परिवार में शामिल करने की है, ताकि विधानसभा चुनाव में भी पार्टी को इसका फायदा मिले।
राज्य में अक्टूबर में विधानसभा चुनाव हैं। भाजपा को लगता है कि मिशन 75 की राह को आसान बनाने में पार्टी के साथ जुड़ने वाले नए सदस्य अहम भूमिका निभा सकते हैं। इसलिए तीन दिन तक चलने वाले सदस्यता अभियान के दौरान पार्टी हर बूथ तक पहुंचेगी। राज्‍य में भाजपा के करीब 20 हजार बूथ हैं और प्रत्येक बूथ पर कम से कम 25 नए सदस्य बनाए जाएंगे। यह संख्या करीब पांच लाख बनती है, लेकिन पार्टी इस सदस्यता ड्राइव को खींच कर सात लाख तक ले जाएगी।
प्रत्येक बूथ पर सदस्यता अभियान के मुख्मयंत्री मनोहर लाल और उनकी टीम के मंत्री, विधायक, सांसद तथा प्रमुख पदाधिकारी नए लोगों को भाजपा के साथ जोड़ते नजर आएंगे। नए सदस्यता अभियान के लिए भाजपा ने विशेष नारा दिया है, 20, 21, 22 जुलाई का काम-सबके लिए सदस्यता अभियान। इस नारे के साथ सभी बोर्ड-निगमों के चेयरमैन और तमाम पदाधिकारी भी बूथों पर मौजूद रहेंगे।
भाजपा ने दूसरे राजनीतिक दलों में भी सेंधमारी का अभियान शुरू कर रखा है। पार्टी राज्य के प्रमुख दल इनेलो को लगभग खाली कर चुकी है। इनेलो के कई प्रमुख नेता भाजपा के संपर्क में हैं, जबकि कांग्रेस के वह नेता भी देर सबेर भाजपा में शामिल हो सकते हैं, जो कांग्रेस दिग्गजों की आपसी गुटबाजी के चलते टिकट से वंचित रह जाएंगे और विभिन्न हलकों में चुनाव लडऩे के प्रबल दावेदार हैं। ऐसे कांग्रेस नेता पार्टी हाईकमान की तरफ ताक रहे हैं, ताकि हरियाणा के अध्यक्ष, विधायक दल के नेता तथा कार्यकारी प्रधानों के बारे में कोई फैसला लिया जा सके।
भाजपा की रणनीति है कि लोकसभा चुनाव में भाजपा की विचारधारा से प्रभावित होकर भाजपा के पक्ष में वोट देने वाले ज्यादा से ज्यादा लोगों को पार्टी के साथ सदस्य के रूप में जोड़ा जाए। इसका सीधा असर अगले विधानसभा में भाजपा के हक में नजर आएगा। पार्टी की सक्रिय सदस्यता के लिए किसी भी कार्यकर्ता को कम से कम सात दिन का समय सदस्यता अभियान के लिए देना अनिवार्य किया गया है। भाजपा ने डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जन्मदिवस पर 6 जुलाई से सदस्यता अभियान शुरू किया था। पार्टी ने पिछली बार की अपेक्षा 20 प्रतिशत अधिक नए सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा है।
'हर कार्यकर्ता को दिया कम से कम 25 ने सदस्य बनाने का लक्ष्य'
'' लोकसभा चुनाव में भाजपा को प्रत्येक बूथ पर अच्छा वोट प्रतिशत मिला है। इसलिए प्रत्येक बूथ पर अधिकतम सदस्य बनाने की रणनीति के तहत तीन दिन का विशेष सदस्यता अभियान चलाया जा रहा है। 20, 21 और 22 जुलाई को सभी जिलाध्यक्ष, जिला सदस्यता प्रमुख, मंडल अध्यक्ष, मंडल सदस्यता प्रमुख और सभी विस्तारक यह सुनिश्चित करेंगे कि भाजपा का मंडल स्तर तक का प्रत्येक कार्यकर्ता सदस्यता अभियान में जुटे। प्रत्येक कार्यकर्ता कम से कम 25 नए सदस्यों को पार्टी के साथ जोड़े।

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 29

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know