चाको ने शीला दीक्षित के अधिकारों को कम किया
Latest News
bookmarkBOOKMARK

चाको ने शीला दीक्षित के अधिकारों को कम किया

By Navbharat Times calender  18-Jul-2019

चाको ने शीला दीक्षित के अधिकारों को कम किया

दिल्ली कांग्रेस के प्रभारी पीसी चाको ने प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित की तबीयत ठीक नहीं रहने का हवाला देकर तीन कार्यकारी अध्यक्षों को जिला और ब्लॉक स्तर की समितियों के प्रमुखों की बैठक बुलाने तथा फैसले लेने का अधिकार दे दिया है। इसे दोनों नेताओं के बीच गहरी होती लड़ाई के बीच दीक्षित की शक्तियों को कम करने के तौर पर देखा जा रहा है। चाको ने दीक्षित को अपने फैसले से अवगत कराते हुए एक पत्र लिखा, जिसके बाद प्रदेश कांग्रेस प्रमुख ने कार्यकारी अध्यक्षों को अलग-अलग जिम्मेदारियां सौंपने का ‘एक्शन नोट’ जारी किया। दीक्षित के सहयोगियों ने कहा कि वह नियमित जांच के लिए अस्पताल में थी और सोमवार को उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल गई।

उन्होंने आरोप लगाया कि उनकी सेहत को लेकर ‘अफवाहें’ फैलाई जा रही हैं। अपनी चिट्ठी में चाको ने इस बात पर नाखुशी जाहिर की कि उनके पहले के निर्देशों पर अमल नहीं किया गया तथा पार्टी के कुछ ‘तथाकथित प्रवक्ताओं ने ‘गैर जिम्मेदाराना’ बयान दिए और अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के प्रभारी के फैसलों पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि दिल्ली में कुछ महीनों बाद ही विधानसभा चुनाव होने हैं। इसलिए जल्द से जल्द दिल्ली कांग्रेस समिति के कामकाज को सुव्यवस्थित करना है।

चाको ने दीक्षित से कहा, ‘‘ आपकी तबीयत ठीक नहीं है और अस्पताल में भर्ती हैं तथा मुझे मेरे पत्रों का कोई जवाब नहीं मिला। इसलिए पार्टी के हित में, मैं कार्यकारी अध्यक्षों को अपने-अपने क्षेत्रों में जिला और ब्लॉक अध्यक्षों की बैठक बुलाने तथा पार्टी को सक्रिय करने के लिए उचित फैसले करने के लिए अधिकृत कर रहा हूं। वे फैसलों के बारे में आपको रिपोर्ट करेंगे।’’ दीक्षित की ओर से हस्ताक्षरित ‘एक्शन नोट’ में कार्यकारी अध्यक्ष हारून यूसुफ को पूर्वी दिल्ली नगर निगम, चार विधानसभा क्षेत्र (तिमारपुर, बुराड़ी, ओखला तथा जंगपुरा), महिला कांग्रेस, सेवा दल और एनएसयूआई की निगरानी का काम सौंपा गया है।

देवेंद्र यादव को दक्षिण दिल्ली नगर निगम, युवा कांग्रेस, जबकि राजेश लिलोठिया को उत्तर दिल्ली नगर निगम तथा दिल्ली कांग्रेस के प्रकोष्ठों का जिम्मा सौंपा गया है। सूत्रों ने बताया कि चाको ने तीन कार्यकारी अध्यक्षों को भी पत्र लिखा है जिसमें प्रदेश प्रभारी ने उनसे अपने अपने क्षेत्रों में पार्टी के मामलों पर नजर रखने, बैठक बुलाने और संगठनात्मक कार्यक्रमों की योजना बनाने को कहा है।(यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।)

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 29

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know