सोनिया गांधी से मिले राज ठाकरे, महाराष्ट्र चुनाव को लेकर पक रही सियासी खिचड़ी
Latest News
bookmarkBOOKMARK

सोनिया गांधी से मिले राज ठाकरे, महाराष्ट्र चुनाव को लेकर पक रही सियासी खिचड़ी

By Amarujala calender  08-Jul-2019

सोनिया गांधी से मिले राज ठाकरे, महाराष्ट्र चुनाव को लेकर पक रही सियासी खिचड़ी

लोकसभा चुनावों में हार के बाद कांग्रेस की सर्वोच्च नेता सोनिया गांधी ने इसी साल अक्टूबर में संभावित विधानसभा चुनावों के लिए सियासी कवायद की कमान खुद संभाल ली है। इसी सिलसिले में महाराष्ट्र को लेकर मनसे नेता राज ठाकरे ने सोमवार को दोपहर बाद सोनिया गांधी से मुलाकात की। दोनों की यह मुलाकात शाम करीब साढ़े चार बजे सोनिया के आवास दस जनपथ पर हुई। यह जानकारी देने वाले विश्वस्त सूत्रों का कहना है कि जल्दी ही आरपीआई के नेता और डॉ. भीमराव आंबेडकर के पौत्र प्रकाश आंबेडकर की भी मुलाकात सोनिया गांधी से हो सकती है।
गौरतलब है कि लोकसभा चुनावों में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने भाजपा और नरेंद्र मोदी के खिलाफ पूरे राज्य में धुंआधार प्रचार किया था। हालाकि राज ने खुद अपने उम्मीदवार नहीं उतारे थे और न ही उन्होंने कांग्रेस एनसीपी गठबंधन के लिए वोट मांगे थे। लेकिन उन्होंने मुंबई नासिक पुणे समेत अनेक इलाकों में मोदी सरकार के वादों और इरादों पर सवाल उठाते हुए खासा आक्रामक प्रचार करके लोगों से भाजपा शिवसेना गठबंधन को हराने की अपील की थी।

राज की सभाओं में जबर्दस्त भीड़ उमडी थी जिसमें उन्होंने बाकायदा अपने भाषण के साथ पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन देकर मोदी सरकार की नीतियों और घोषणाओं पर हमला किया था। यहां तक कि राज ठाकरे पुलवामा में आतंकवादी हमले और उसके बाद बालाकोट पर वायुसेना की कार्रवाई को लेकर भी मोदी सरकार से बेहद असहज सवाल पूछे थे। यह अलग बात है कि राज ठाकरे की इस मेहनत के बावजूद लोकसभा चुनावों के नतीजे कांग्रेस-एनसीपी के लिए निराशाजनक ही रहे।
हार की कगार पर राज ठाकरे की मनसे
राज ठाकरे और उनकी मनसे पिछले विधानसभा चुनावों में करारी हार के बाद से ही हाशिए पर है। लेकिन लोकसभा चुनावों में राज ने अपनी राजनीतिक प्रासंगिकता बना ली, जिसका फायदा उन्हें कांग्रेस एनसीपी गठबंधन के साथ जाने से हो सकता है। इसीलिए राज ठाकरे ने उत्तर भारतीयों के प्रति अपने परंपरागत तेवर भी बेहद नरम कर लिए हैं। लंबे समय से उनका कोई बयान उत्तर भारतीयों के खिलाफ नहीं आया है। 

MOLITICS SURVEY

मॉब लिंचिंग किस वजह से हो रही है ?

दाढ़ी
  5.66%
टोपी
  9.43%
राष्ट्रवाद
  84.91%

TOTAL RESPONSES : 53

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know