मोदी सरकार ने जारी की उन अलगाववादी नेताओं की लिस्ट जिनके बच्चे पढ़ते हैं विदेशों में
Latest News
bookmarkBOOKMARK

मोदी सरकार ने जारी की उन अलगाववादी नेताओं की लिस्ट जिनके बच्चे पढ़ते हैं विदेशों में

By Khabar.ndtv calender  07-Jul-2019

मोदी सरकार ने जारी की उन अलगाववादी नेताओं की लिस्ट जिनके बच्चे पढ़ते हैं विदेशों में

कश्मीर के अलगाववादी नेता अपने बच्चों और परिवार के सदस्यों को विदेश भेजने के चलते सरकार की निगाह में आ गए हैं. गृह मंत्रालय ने 200 अलगाववादी नेताओं की लिस्ट जारी की है, जिनके बच्चे या तो विदेशों में पढ़ाई कर रहे हैं या फिर नौकरियां कर रहे हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कई अलगाववादी नेताओं के प्रदर्शन की वजह से कश्मीर में पिछले 3 सालों में से 240 दिन स्कूल और कॉलेज बंद रहे हैं. घाटी में रहने वाले छात्रों को इस वजह से खासी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है तो वहीं दूसरी इन्हीं अलगाववादी नेताओं के बच्चे विदेशों में बिना किसी परेशानी के जिंदगी जी रहे हैं. दुख्तरान-ए-मिल्लत के प्रमुख आसिया अंद्राबी के दो बेटे हैं और दोनों ही विदेश में पढ़ाई कर हैं. एक मलेशिया में पढ़ाई कर रहा है और दूसरा बेटा ऑस्ट्रेलिया में पढ़ रहा है. हुर्रियत नेता बिलाल लोन की एक बेटी और दामाद लंदन में बसे हैं जबकि छोटी बेटी ऑस्ट्रेलिया में पढ़ाई कर रही है. वहीं तहरीक-ए-हुर्रियत के चेयरमैन अशरफ सहरई के दो बेटे खालिद-आबिद सऊदी अरब में काम करते हैं. हुर्रियत कांफ्रेंस के चेयरमेन सयैद अली शाह गिलानी के दो पोते पाकिस्तान और तुर्की में नौकरियां कर रहे हैं. 
‘महिला सुरक्षा’ के लिए फ्री बस-मेट्रो को 1500 करोड़ पर निर्भया फंड का 1% भी खर्च नहीं
श्रीनगर के स्थायी पत्रकार अहमद अली फैयाज का कहना है कि समस्या ये है कि जब अलगाववादी नेता बंद का आह्वाहन करते हैं तो उन्हें कश्मीर के लोगों के बारे में भी सोचना चाहिए, उन्हें उन लोगों के बारे में सोचना चाहिए जिनकी वो नुमाइंदगी करते है. फैयाज के मुताबिक ये नेता आए दिन कश्मीर बंद का आगाज करते हैं लेकिन अब जो डाटा हमारे पास है उससे साबित होता है कि उन्हें बंद का आह्वाहन करने का कोई अधिकार नहीं है. वहीं अलगाव वादी नेता इस पर कहते हैं कि संविधान में हर किसी को अपने बच्चों को पढ़ाने का अधिकार है. 

MOLITICS SURVEY

मॉब लिंचिंग किस वजह से हो रही है ?

दाढ़ी
  5.66%
टोपी
  9.43%
राष्ट्रवाद
  84.91%

TOTAL RESPONSES : 53

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know