कांवड़ यात्रा में डीजे और माइक पर प्रतिबंध नहीं, लेकिन केवल भजन बजाने की अनुमति - योगी
Latest News
bookmarkBOOKMARK

कांवड़ यात्रा में डीजे और माइक पर प्रतिबंध नहीं, लेकिन केवल भजन बजाने की अनुमति - योगी

By Amar Ujala calender  04-Jul-2019

कांवड़ यात्रा में डीजे और माइक पर प्रतिबंध नहीं, लेकिन केवल भजन बजाने की अनुमति - योगी

16 जुलाई से निकलने वाली कांवड़ यात्रा के दौरान डीजे और माइक पर किसी तरह का प्रतिबंध नहीं रहेगा लेकिन फिल्मी गानों और अश्लील गानों पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा। बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कांवड़ यात्रा को लेकर प्रदेश के अधिकारियों के साथ लोकभवन में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर रहे थे।मुख्यमंत्री ने कहा कि डीजे और माइक पर कांवड़ यात्रियों को केवल भजन ही बजाने की अनुमति होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग माहौल बिगाड़ने की लगातार साजिश रच रहे हैं, इनकी मंशा को कतई कामयाब नहीं होने देना है। उन्होंने कहा कि जो लोग अराजकता फैलाने की कोशिश कर रहे हैं, उन्हें चिन्हित कर उनके खिलाफ प्रभावी कार्रवाई करें। कार्रवाई का दायरा अराजकता फैलाने वालों तक नहीं, बल्कि उनको संरक्षण देने वालों तक होना चाहिए। जड़ तक पहुंचेगे तो समस्या का समाधान हो जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकारी कुंभ से सीख लें। अगर इतना बड़ा आयोजन इतनी सफलता से हो सकता है तो कांवड़ यात्रा का आयोजन भी इसी तरह किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि इसके बाद छठ तक त्यौहारों का एक लम्बा सिलसिला चलने वाला है। 
उन्होंने कांवड़ यात्रा की व्यवस्था के बारे में निर्देश दिया कि सभी जिलाधिकारी प्रमुख शिवालयों की साफ-सफाई के साथ जरूरत के अनुसार वहां बिजली, पानी, सुरक्षा खासकर महिलाओं की और अन्य बुनियादी सुविधाओं की व्यवस्था समय रहते सुनिश्चि करा लें। जरूरत हो तो स्थानीय स्तर पर स्वंयसेवी संगठनों की भी मदद लें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले वर्ष की तरह इस बार भी कांवड़ियों की सुरक्षा की निगरानी हेलीकॉप्टर से की जाएगी और कांवड़ यात्रियों पर पुष्प वर्षा की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह भी सुनिश्चित करा लें की शिवालयों के पास मांस और शराब की दुकान नहीं होनी चाहिए। 

प्लास्टिक, थर्माकोल का प्रयोग नहीं होना चाहिए। कांवड़ मार्ग पर स्वच्छता का भी खास ख्याल रखने और डस्टबिन रखवाने के निर्देश मुख्यमंत्री ने दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांवड़ यात्रा के दौरान बकरीद पड़ने के कारण इसकी संवेदनशीलता बढ़ जाती है। लिहाजा यह सुनिश्चित कराएं की कहीं पर अलग से कोई परम्परा न शुरू हो। प्रतिबंधित श्रेणी का कोई जानवर नहीं कटने पाएगा। सार्वजनिक क्षेत्रों में भी जानवर नहीं काटे जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि संवेदनशील जगहों पर सीसीटीव कैमरा लगवाएंए जर्जर तार और पोलों को ठीक कर लें।

MOLITICS SURVEY

मॉब लिंचिंग किस वजह से हो रही है ?

दाढ़ी
  5.66%
टोपी
  9.43%
राष्ट्रवाद
  84.91%

TOTAL RESPONSES : 53

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know