'बजट' वाले ब्रीफकेस की दिलचस्प है कहानी
Latest News
bookmarkBOOKMARK

'बजट' वाले ब्रीफकेस की दिलचस्प है कहानी

By Navbharattimes calender  03-Jul-2019

'बजट' वाले ब्रीफकेस की दिलचस्प है कहानी

यूनियन बजट 2019 जल्द ही पेश होने जा रहा है। 5 जुलाई को आप वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के हाथ में आप एक 'ब्रीफकेस' देखेंगे, जिसे लेकर हर साल बजट के दिन वित्त मंत्री संसद पहुंचते हैं। इस साल दूसरी बार यह ब्रीफकेस आपको दिखेगा, क्योंकि चुनाव से पहले सरकार ने अंतरिम बजट पेश किया था। 
संसद में बजट भाषण से पहले वित्त मंत्री इस ब्रीफकेस के साथ मीडिया के सामने पोज देते नजर आते हैं। इस प्रथा को जारी रखते हुए देश की पहली पूर्णकालिक महिला वित्त मंत्री भी ऐसा कर सकती हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि संविधान में 'बजट' शब्द का इस्तेमाल ही नहीं किया गया है। इसे वार्षिक वित्तीय विवरण कहा गया है। 'बजट' शब्द भी इसी बैग से जुड़ा हुआ है। 
यह भी पढ़ें-  राजस्थान की शीर्ष महिला रहीं वसुंधरा राजे का अविश्वसनीय अकेलापन
कैसे हुई थी शुरुआत?
चूंकि ब्रिटिश संसद को सभी संसदीय परंपराओं की जननी माना जाता है, इसलिए 'बजट' भी इसका अपवाद नहीं है। दरअसल 1733 में जब ब्रिटिश प्रधानमंत्री एवं वित्त मंत्री (चांसलर ऑफ एक्सचेकर) रॉबर्ट वॉलपोल संसद में देश की माली हालत का लेखाजोखा पेश करने आए, तो अपना भाषण और उससे संबद्ध दस्तावेज चमड़े के एक बैग (थैले) में रखकर लाए। चमड़े के बैग को फ्रेंच भाषा में बुजेट कहा जाता है। बस, इसीलिए इस परंपरा को पहले बुजेट और फिर कालांतर में बजट कहा जाने लगा। जब वित्त मंत्री चमड़े के बैग में दस्तावेज लेकर वाषिर्क लेखाजोखा पेश करने सदन में पहुंचता तो सांसद कहते - 'बजट खोलिए, देखें इसमें क्या है।' या 'अब वित्त मंत्री जी अपना बजट खोलें।' इस तरह 'बजट' नामकरण साल दर साल मजबूत होता गया। 
अंग्रेजों के जमाने से परंपरा 
अंग्रेजों ने इस परंपरा को भारत में भी बढ़ाया जो आज भी जारी है। आजादी के बाद पहले वित्त मंत्री आरके शानमुखम चेट्टी ने 26 जनवरी 1947 को जब पहली बार बजट पेश किया तो लेदर बैग के साथ संसद पहुंचे थे। 
कई बार बदला रंग
इतने सालों में इस बैग का आकार लगभग बराबर ही रहा। हालांकि, इसका रंग कई बार बदला है। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 1991 में परिवर्तनकारी बजट पेश किया तो वह काला बैग लेकर पहुंचे थे। जवाहरलाल नेहरू, यशवंत सिन्हा भी काला बैग लेकर बजट पेश करने पहुंचे थे, जबकि प्रणब मुखर्जी लाल ब्रीफकेस के साथ पहुंचे थे। पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के हाथों में ब्राउन और रेड ब्रीफकेस दिखा था। इस साल अंतरिम बजट पेश करने वाले कार्यवाहक वित्त मंत्री पीयूष गोयल लाल ब्रीफकेस के साथ सदन में पहुंचे थे। 

MOLITICS SURVEY

मॉब लिंचिंग किस वजह से हो रही है ?

दाढ़ी
  5.66%
टोपी
  9.43%
राष्ट्रवाद
  84.91%

TOTAL RESPONSES : 53

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know