CM बघेल ने PM मोदी को लिखा पत्र- PDS केरोसिन में की गई कटौती को वापस लिया जाए
Latest News
bookmarkBOOKMARK

CM बघेल ने PM मोदी को लिखा पत्र- PDS केरोसिन में की गई कटौती को वापस लिया जाए

By News18 calender  30-Jun-2019

CM बघेल ने PM मोदी को लिखा पत्र- PDS केरोसिन में की गई कटौती को वापस लिया जाए

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर प्रदेश के केरोसिन आवंटन में की गई कटौती को वापस लेने की मांग की है. बता दें कि सीएम बघेल ने पत्र के जरिए हर वर्ष 1.53 लाख किलोलीटर केरोसिन का आवंटन देने का आग्रह किया है, ताकि राशन दुकानों से राज्य के गरीब और जरूरतमंद परिवारों को जरूरत के हिसाब से केरोसिन दिया जा सके.

पहले भी पीएम को लिख चुके हैं पत्र

सीएम भूपेश बघेल ने लिखा है कि पहले भी उन्होंने बीते 26 मार्च 2019 को पत्र लिखकर पीएम से आग्रह किया था कि छत्तीसगढ़ में प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के क्रियान्वयन के बाद पीडीएस केरोसिन के आवंटन में की गई कटौती को वापस लिया जाए. एलपीजी सिलेंडर की अधिक दर होने व राज्य में एलपीजी द्वारा प्रदाय की सुविधा सीमित होने के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में इसकी वार्षिक रिफिलिंग दर नगण्य (जो गिने जाने योग्य न हो) है. इस कारण राज्य के वार्षिक केरोसिन आवंटन को 1.1 लाख किलोलीटर से बढ़ाकर 1.58 किलोलीटर करने का अनुरोध किया गया था.

पीएम से किया आग्रह

बता दें कि मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ की स्थिति और यहां केरोसिन की अधिक कटौती को देखते हुए प्रधानमंत्री मोदी से आग्रह किया है कि सिंगल सिलेंडर कनेक्शन वाले राशन कार्डधारी को पीडीएस केरोसिन के लिए अपात्र नहीं माना जाए. इसी तरह छत्तीसगढ़ राज्य जहां एलपीजी की कवरेज राष्ट्रीय औसत और अन्य राज्यों की तुलना में कम है, वहां राज्य सरकार के प्रस्ताव के अनुसार केरोसिन का आवंटन निर्धारित किया जाए.

सीएम भूपेश बघेल ने बताया कि राज्य के पीडीएस केरोसिन के आवंटन में वृद्धि के बजाए वर्तमान वित्तीय वर्ष 2019-20 के द्वितीय तिमाही के लिए भारत सरकार द्वारा जारी आवंटन में प्रदेश के केरोसिन कोटा में 10 हजार 884 किलोलीटर की कमी की गई है. मुख्यमंत्री ने बताया कि एलपीजी कवरेज को आधार मानकर वर्तमान वित्तीय वर्ष के द्वितीय तिमाही में राज्यवार जारी केरोसिन के आवंटन में भी विसंगतियां हैं.

द्वितीय तिमाही के लिए राज्यों में पीडीएस के केरोसिन में 27 प्रतिशत की कटौती की गई है जबकि राष्ट्रीय औसत से 11 प्रतिशत या 38 प्रतिशत कटौती छत्तीसगढ़ में की गई.

अन्य राज्यों से की तुलना 

सीएम बघेल ने लिखा है कि पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में एलपीजी का कवरेज क्रमशः 94 प्रतिशत और 99 प्रतिशत होने के बावजूद यहां शून्य एवं 33 प्रतिशत कटौती की गई है. गुजरात, बिहार एवं उड़ीसा में ही एलपीली का कवरेज छत्तीसगढ़ के बराबर होने के बावजूद इनकी तुलना में छत्तीसगढ़ के केरोसिन आवंटन में कटौती काफी अधिक की गई है.

MOLITICS SURVEY

ट्रैफिक रूल्स में हुए नए बदलाव जनता के लिए !

फायदेमंद
  33.33%
नुकसानदायक
  66.67%

TOTAL RESPONSES : 24

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know