आनंदपाल के बाद फिर एक बदमाश हुआ कुख्यात, वसुंधरा का महल उड़ाने की दे चुका है धमकी
Latest News
bookmarkBOOKMARK

आनंदपाल के बाद फिर एक बदमाश हुआ कुख्यात, वसुंधरा का महल उड़ाने की दे चुका है धमकी

By News18 calender  22-Jun-2019

आनंदपाल के बाद फिर एक बदमाश हुआ कुख्यात, वसुंधरा का महल उड़ाने की दे चुका है धमकी

दो साल पहले कुख्यात बदमाश आनंदपाल के एनकाउंटर के साथ ही राजस्थान के अपराध जगत से एक बड़ी कहानी का अंत हो गया लेकिन पिछले सात दिन से एक और अपराधी ने पुलिस की नाक में दम कर रखा है. इस कुख्यात बदमाश का नाम जगन गुर्जर है, जो चंबल के बीहड़ों में पिछले कई सालों से अपराध का पर्याय बन चुका है.

80 से ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज होने और कई बार जेल की हवा खाने के बाद भी हर बार जगन अपने डकैत साथियों के साथ फिर से चंबल के बीहड़ों में आतंक मचाने लगता है. हर बार इस अपराधी के सामने पुलिस बौनी साबित होती है. 40 हजार के इनामी इस डकैत को पकड़ने के लिए धौलपुर पुलिस पिछले सात दिन से ATS और ईआरटी (विशेष सुरक्षा बल) टीमों के साथ सर्च ऑपरेशन चलाए हुए हैं लेकिन न जगन हाथ लगा है, न उसके साथी. बता दें ये वहीं डकैत जगन है, जिसने तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के महल को बम से उड़ाने की धमकी दी थी.
7 दिन से चंबल की खाक छान रही पुलिस 
पिछले सात दिनों से पुलिस अपनी पूरी ताकत डकैत जगन गुर्जर को पकड़ने में लगाए हुए हैं. चंबल के बीहड़ों में इस दौरान तीन बार पुलिस और डकैतों के बीच मुठभेड़ भी हुई है लेकिन जगन पुलिस की गिरफ्त से अब भी दूर है. गुरुवार को पुलिस ने 40 हजार रुपए का ईनाम घोषित कर चुकी है. इससे पहले भरतपुर रेंज से पांच हजार का इनाम घोषित किया गया है
वसुंधरा का महल उड़ाने की धमकी, 11 लाख का ईनाम
डकैत जगन ने गुर्जर आंदोलन के दौरान तत्कालीन सीएम वसुंधरा राजे के महल को उड़ाने की धमकी दी थी. इसके बाद कथित तौर पर उस पर 11 लाख का ईनाम घोषित किया गया था. तब चारों तरफ से घिरे जगन गुर्जर ने दस साल पहले 2009 में वर्ष कांग्रेस नेता सचिन पायलट की मौजूदगी में करौली में पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण किया था. करीब 8 साल जेल में रहने के बाद पिछले साल मार्च में जगन को जमानत पर रिहा किया गया.
दूसरी बार भरतपुर में आत्मसमर्पण
जेल से छूटने के बाद भी डकैत जगन ने अपराध नहीं छोड़ा और एक बार फिर पुलिस को 5000 रुपए का ईनाम घोषित करना पड़ा. हत्या, लूटपाट, रंगदारी के कई मुकदमों में लिप्त जगन ने पिछले साल अगस्त में भरतपुर पुलिस के सामने फिर आत्मसमर्पण किया. तब से जगन जेल में बंद था और पिछले महीने ही जमानत पर फिर जेल से बाहर आया था.

खौफ पैदा करने के लिए की फायरिंग, महिलाओं को घुमाया निर्वस्त्र
जेल से बाहर आने के बाद फिर से अपना खौफ पैदा करने के लिए 12 जून को जगन ने बसई डांक थाना इलाके में फायरिंग की और दहशत फैलाते हुए करणसिंह का पुरा गांव में महिलाओं को सरेआम निर्वस्त्र घुमाया. इस घटना के बाद से पुलिस ने जगन को पकड़ने के लिए छापेमारी कर रही है.
 

MOLITICS SURVEY

ट्रैफिक रूल्स में हुए नए बदलाव जनता के लिए !

फायदेमंद
  33.33%
नुकसानदायक
  66.67%

TOTAL RESPONSES : 24

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know