नीतीश की अम‍ित शाह को दो टूक- सांकेतिक नहीं, संख्‍या के हिसाब से मंत्री पद म‍िलने चाहिए
Latest News
bookmarkBOOKMARK

नीतीश की अम‍ित शाह को दो टूक- सांकेतिक नहीं, संख्‍या के हिसाब से मंत्री पद म‍िलने चाहिए

By Tv9bharatvarsh calender  31-May-2019

नीतीश की अम‍ित शाह को दो टूक- सांकेतिक नहीं, संख्‍या के हिसाब से मंत्री पद म‍िलने चाहिए

बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्रीय मंत्रिपरिषद में जनता दल (यूनाइटेड) के शामिल न होने पर सफाई दी है. नीतीश ने कहा कि “अमित शाह से मुलाकात में उन्‍होंने बताया कि हम एनडीए के सभी घटक दलों को एक-एक सीट दे रहे हैं और आप को भी देना है. हम उनकी बात सुनते रहे और फिर हमने कहा कि जहां तक सवाल है बीजेपी का, उसको तो पूर्ण बहुमत है. हम सभी का उनको (BJP) समर्थन है लेकिन उनकी बात से जो लगा कि एनडीए के घटक दलों को वो सांकेतिक रूप से प्रतिनिधित्‍व देना चाहते थे. तो उस समय भी हमने कहा था कि इसकी कोई खास आवश्‍यकता नहीं है.”
बिहार सीएम ने आगे कहा, “हमने कहा कि उसमें और लोगों को कितना (मंत्री) बना रहे हैं, बिहार में भी कितने लोगों को क्‍या कर रहे हैं, ये सब हम जानना चाहते थे. जब उन्‍होंने एक ही की बात कही और कहा कि ये प्रतीकात्‍मक है. तो हमने कहा कि इसमें तो हम यह समझते हैं कि इसकी कोई जरूरत नहीं है लेकिन फिर भी आप कह रहे हैं तो पार्टी से बात करेंगे. लौटकर गया तो पार्टी के लोगों से बात हुई. 16 लोकसभा में हैं, 6 राज्‍य सभा में है. सब लोगों ने कहा कि यह उचित नहीं है.”
नीतीश ने कहा, “जो सांकेतिक होता है, उसकी भागीदारी की कोई जरूरत नहीं है. भागीदारी करेंगे तो आनुपातिक आधार पर होनी चाहिए. अगर भागीदारी होती है तो कितनी सीटों पर कितने पद देंगे, ये हमारी पार्टी में बात थी लेकिन आनुपातिक प्रतिनिधित्‍व होना चाहिए और हमें कितनी सीट चाहिए, उसके बारे में हमने कुछ नहीं कहा. हम लोगों ने कुछ मांगा ही नहीं. जो उनके सांकेतिक प्रतिनिधित्‍व की बात आई तो हमको लगा कि इसकी आवश्‍यकता क्‍या है.”
उन्‍होंने कहा, “गठबंधन जब होता है, तब आनुपातिक प्रतिनिधित्‍व होना चाहिए. इसके पहले भी केंद्र में सरकार रही है. पार्टी ने सभी साथियों से बात की. हमने उनको यह बात बताई, तो उनके प्रभारी महासचिव हमारे यहां आए. हमने कहा कि सब लोगों ने तो यही बात कह दी है. तो उसकी चिंता मत करिए कि हम लोगों को कोई परेशानी है. बिहार में हम लोग मिलकर के काम कर रहे हैं. केंद्र में सांकेतिक रूप से भागीदारी की कोई इच्‍छा नहीं है.”

MOLITICS SURVEY

क्या कांग्रेस का महागठबंधन से अलग रह के चुनाव लड़ने की वजह से बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला है?

हाँ
  51.35%
नहीं
  43.24%
अनिश्चित
  5.41%

TOTAL RESPONSES : 37

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know