तंवर की प्रधानगी में हर चुनाव हारी कांग्रेस, हुड्डा की दावेदारी भी खतरे में
Latest News
bookmarkBOOKMARK

तंवर की प्रधानगी में हर चुनाव हारी कांग्रेस, हुड्डा की दावेदारी भी खतरे में

By Jagran calender  25-May-2019

तंवर की प्रधानगी में हर चुनाव हारी कांग्रेस, हुड्डा की दावेदारी भी खतरे में

लोकसभा चुनावों के बाद हरियाणा कांग्रेस के प्रधान की विदाई तय है। वर्ष 2014 में डॉ. अशोक तंवर के हरियाणा कांग्रेस की कमान संभालने के बाद चुनावी समर में पार्टी की हार का जो सिलसिला शुरू हुआ था, वह मौजूदा लोकसभा चुनावों में भी नहीं थम पाया। रोहतक लोकसभा सीट को छोड़ दें तो पार्टी कहीं पर भी भाजपा प्रत्याशियों को तगड़ी चुनौती नहीं दे पाई है।
अशोक तंवर द्वारा फरवरी 2014 में हरियाणा कांग्रेस के 19वें प्रधान के रूप में कुर्सी संभालने के तुरंत बाद लोकसभा चुनाव हुए जिनमें पार्टी केवल रोहतक में ही जीत दर्ज कर सकी। हुड्डा परिवार के रसूख के चलते दीपेंद्र सांसद बनने में सफल रहे, जबकि नौ संसदीय क्षेत्रों में कांग्रेस प्रत्याशियों को बुरी तरह हार झेलनी पड़ी। इससे पहले वर्ष 2009 के संसदीय चुनावों में कांग्रेस दस में से नौ सीटों पर विजय पताका फहराने में सफल रही थी।
तंवर के प्रदेश अध्यक्ष रहते कांग्रेस को विधानसभा चुनावों में भी करारी हार झेलनी पड़ी। लगातार दस साल सत्ता में रहने वाली कांग्रेस सिर्फ 17 विधायकों पर सिमट गई। फिर पंचायत चुनाव से लेकर पांच नगर निगमों और फिर जींद उपचुनाव में भी कांग्रेस हार से उबर नहीं पाई और पार्टी प्रत्याशी लगातार चुनाव हारते चले गए। इतना ही नहीं, संगठन के स्तर पर भी कांग्रेस पदाधिकारियों की अभी तक नियुक्तियां नहीं हो पाई हैं।

MOLITICS SURVEY

क्या कांग्रेस का महागठबंधन से अलग रह के चुनाव लड़ने की वजह से बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला है?

हाँ
  51.35%
नहीं
  43.24%
अनिश्चित
  5.41%

TOTAL RESPONSES : 37

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know