बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से एक-तिहाई पर मतदाताओं के लिए NOTA तीसरा सबसे पंसदीदा विकल्प
Latest News
bookmarkBOOKMARK

बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से एक-तिहाई पर मतदाताओं के लिए NOTA तीसरा सबसे पंसदीदा विकल्प

By PrabhatKhabar calender  24-May-2019

बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से एक-तिहाई पर मतदाताओं के लिए NOTA तीसरा सबसे पंसदीदा विकल्प

बिहार के 40 लोकसभा क्षेत्रों में से एक-तिहाई पर लोकसभा चुनाव 2019 में मतदाताओं के लिए नोटा तीसरे सबसे पंसदीदा विकल्प के रूप में सामने आया है. निर्वाचन आयोग द्वारा जारी आंकड़े के मुताबिक, लोकसभा चुनाव 2019 में बिहार के सभी 40 लोकसभा क्षेत्रों में से एक-तिहाई में मतदाताओं के लिए नोटा तीसरा सबसे पसंदीदा विकल्प बनकर उभरा है, जो कि कुल वैध मतों का दो प्रतिशत है. विशेष रूप से नोटा का उपयोग लोगों द्वारा बिहार की तीन आरक्षित सीटों जहां विधानसभा क्षेत्रों की कुल संख्या छह हैं, अधिक किया गया है.

ResultWithMolitics- https://www.molitics.in/election/result
बिहार के अररिया और कटिहार लोकसाभा सीटें, जहां मुस्लिम मतदाताओं की एक बड़ी संख्या है और इन सीटों से अल्पसंख्यक समुदाय के सांसदों को एनडीए उम्मीदवारों के हाथों इस बार पराजय झेलनी पड़ी है, वहां भी नोटा के प्रति लोगों का रूझान पाया गया है. अररिया में 20,618 और कटिहार में 20,584 मतदाताओं ने नोटा को विकल्प के रूप में चुना. गोपालगंज में सबसे ज्यादा 51,660 मतदाताओं ने नोटा का विकल्प चुना. यह सीट जेडीयू के अजय कुमार सुमन को मिली, जिन्होंने आरजेडी के सुरेंद्र राम को 2.86 लाख मतों से हराया. 

MOLITICS SURVEY

क्या कांग्रेस का महागठबंधन से अलग रह के चुनाव लड़ने की वजह से बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला है?

हाँ
  51.35%
नहीं
  43.24%
अनिश्चित
  5.41%

TOTAL RESPONSES : 37

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know