Loksabha Election - शराब, सोना, रुपया-पैसा और ड्रग्स का पूरा हिसाब
Latest News
bookmarkBOOKMARK

Loksabha Election - शराब, सोना, रुपया-पैसा और ड्रग्स का पूरा हिसाब

By Molitics calender  21-May-2019

गुजरात हो, दिल्ली हो, तमिलनाडु हो, पंजाब हो या बंगाल - हर राज्य में शराब, ड्रग्स, नकदी, सोना-चाँदी जम कर बँटा भी और सीज़ भी किया गया। लगभग 3447.74 करोड़ रुपयों की वैल्यू के ड्रग्स, अल्कोहल, मैटल औऱ कैश सीज़ किया गया है। पूरे देश में 184.34 लाख लीटर शराब सीज़ की गई जिसकी कुल कीमत 293.60 करोड़ रुपये थे। 41.64 लाख लीटर शराब के साथ महाराष्ट्र पहले स्थान पर रहा।मात्रा की दृष्टि से 16.57 लाख लीटर और 16.3 लाख लीटर के साथ उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर है। अगर कीमत की बात की जाए तो 45.48 करोड़ रुपयों के शराब के साथ उत्तर प्रदेश पहले स्थान पर रहा। बिहार जहाँ शराब बंद है, वहाँ 1.19 लाख लीटर शराब ज़ब्त की गई। बात ड्रग्स की हो तो इन चुनावों में कुल 76521.09 किलो ड्रग्स जब्त की गई। जब्त किए गए ड्रग्स की कीमत 1269.63 करोड़ रुपये थे। मात्रा के हिसाब से उत्तर प्रदेश पहले, मध्य प्रदेश दूसरे और महाराष्ट्र तीसरे पर है। उत्तर प्रदेश से 24378 कि. ग्राम, मध्य प्रदेश से 20558 कि. ग्राम और महाराष्ट्र से 15423 कि. ग्राम ड्रग्स ज़ब्त की गई। वहीं अगर लागत की बात करें तो गुजरात, दिल्ली और पंजाब, 524.34 करोड़, 374.67 करोड़ औऱ 218.49 के साथ पहले, दूसरे और तीसरे नंबर पर हैं। 709.63 करोड़ की लागत के 3113 कि ग्राम सोना चांदी और अन्य मैटल के साथ तमिलनाडु कीमत और मात्रा - दोनों दृष्टि से पूरे देश में अव्वल है। कीमत की दृष्टि से उत्तर प्रदेश दूसरे और महाराष्ट्र कम मार्ज़िन से तीसरे स्थान पर है। मात्रा के हिसाब से कमलनाथ के मध्य प्रदेश और अमरिंदर सिंह के पंजाब ने बाज़ी मारी है। नकदी भी काफी मात्रा में जब्त की गई है। तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना लगभग 227 करोड़, 139 करोड़ और 71 करोड़ की लागत के साथ पहले, दूसरे और तीसरे स्थान पर है। जब्त किए गए इन 3447.74 करोड़ क्या बैंकों से आए हैं। क्या काग़ज़ों में एंट्रीज़ होंगी इन पैसों की। क्या प्रॉपर टैक्स दिया गया होगा? नहीं। मतलब ये वही काला धन है, जिसे नोटबंदी में खत्म कर दिया गया था। लोगों को बैंकों की लाइनों में महीनों तक खड़ा कर देने के बावजूद ये किसी मकसद में पास नहीं हुआ। गरीबी मिटा देने के वादे करने वाली बीजेपी या न्याय का वादा कर देने वाली कांग्रेस या कोई और भी पार्टी न तो गरीबों से सहानुभूति रखती है न ही उनके ग़मों का इलाज करने की योजना।

MOLITICS SURVEY

ट्रैफिक रूल्स में हुए नए बदलाव जनता के लिए !

फायदेमंद
  33.33%
नुकसानदायक
  66.67%

TOTAL RESPONSES : 24

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know