अंधा बांटे सिरनी, अपनों-अपनों को दें- डॉ. अशोक तंवर