निर्वाचन आयोग ने "पप्पु"को नहीं किया पास
Latest Article

निर्वाचन आयोग ने "पप्पु"को नहीं किया पास

Author:   24 Nov 2017

निर्वाचन आयोग ने "पप्पु"को नहीं किया पास

गुजरात में निर्वाचन आयोग (ईसी) ने भारतीय जनता पार्टी के टेलीविजन चुनाव प्रचार अभियान में पप्पू शब्द के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है। निर्वाचन आयोग को प्रचार अभियान में पप्पू शब्द पर आपत्ति है। उसे लगता है कि इसके जरिये कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को अप्रत्यक्ष तरीके से निशाना बनाया गया है और यह अपमानजनक है। आयोग ने इस संबंध में भाजपा को भेजे पत्र में कहा है, इस राजनीतिक प्रचार में इसका (पप्पू) इस्तेमाल नहीं होना चाहिए, समिति इस प्रचार में बदलाव की अनुशंसा करती है। इसमें भाजपा के नए प्रचार अभियान को प्रतिबंधित करने के लिए टेलीविजन नेटवर्क रूल्स 1994 का हवाला भी दिया गया है। ईसी के इस निर्णय के बाद राजनीतिक विवाद पैदा हो गया है। भाजपा इस निर्णय से खिन्न नजर आ रही है। भाजपा को आयोग की ओर से पहला पत्र 31 अक्टूबर को भेजा गया था, जिसके बाद पार्टी ने सात नवंबर को प्रचार सामग्री पर बैन के विरोध में अपील की थी। लेकिन भाजपा की तमाम कोशिशों के बाद भी निर्वाचन आयोग अपने रुख पर अड़ा रहा। माना जा रहा है कि भाजपा अब इस मामले को लेकर एक बार फिर से राज्य निर्वाचन आयोग में अपील कर सकती है। ईसी की आपत्ति का कड़ा विरोध करते हुए भाजपा ने कहा है कि इस प्रचार सामग्री में किसी का भी सीधे तौर पर नाम नहीं लिया गया है। पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने राज्य निर्वाचन आयोग की आलोचना करते हुए कहा कि, निर्वाचन आयोग ने पप्पू शब्द को आधिकारिक बना दिया और इसे राहुल गांधी का पर्याय बना दिया। जबकि नलिन कोहली निर्वाचन आयोग से ही इसका स्पष्टीकरण चाहते हैं कि आखिर क्यों उसने प्रचार सामग्री को प्रतिबंधित किया है? उन्होंने कहा कि मुझे समझ नहीं आता कि निर्वाचन आयोग आखिर पप्पू शब्द को राहुल गांधी से क्यों जोड़ रहा है? भाजपा और उसके समर्थकों की खीझ स्वाभाविक है। आखिर इतने बरसों में उन्होंने बड़ी मेहनत से अपने प्रचार तंत्र के जरिए राहुल गांधी के लिए पप्पू का किरदार गढ़ा था और अब गुजरात चुनाव के वक्त जब उसकी सबसे ज्यादा जरूरत थी, भाजपा इस किरदार का इस्तेमाल नहींकर पाएगी। भाजपा प्रवक्ता भले यह मासूम तर्क दें कि पप्पू का संबंध राहुल गांधी से नहीं है, लेकिन उनकी मासूमियत किसी के गले नहीं उतरेगी। अब देखने वाली बात यह है कि भाजपा की सोशल मीडिया पर सक्रिय रचनात्मक टीम अब कौन सा विशेषण लेकर आती है, जिससे राहुल गांधी का मजाक बनाया जा सके। वैसे यह पहली बार नहीं है कि अपने राजनीतिक विरोधी के लिए मजाक उड़ाने वाले नाम न गढ़े जाएं। राहुल गांधी को लंबे समय तक शहजादा या युवराज ही कहा जाता था। कांग्रेस विरोधी इसके जरिए वंशवाद पर निशाना साधना चाहते थे, लेकिन अब तो वामदलों को छोड़ कोई राजनीतिक पार्टी नजर नहीं आती, जहां अपने वंशबेल फलती-फूलती न हो। युवराज की उपयोगिता उतनी साबित न हुई तो राहुल गांधी को नाकारा या अयोग्य बताने के लिए पप्पू शब्द प्रचलन में ले आया गया। 10 साल पहले एक गाना खूब हिट हुआ था पप्पू कांट डांस साला। तो यह पप्पू शायद उसी से प्रेरित था। दिलचस्प बात यह है कि 2009 में ईसी ने मतदान के लिए लोगों को प्रेरित करने के पप्पू कांट वोट का विज्ञापन चलाया था। यानी आप में जागरूकता नहीं है तो आप पप्पू हो। कैडबेरी चाकलेट का एक विज्ञापन आता था, जिसमें अमिताभ बच्चन पप्पू पास हो गया का गीत गाते हैं। बाद में इसी पंक्ति पर कई गाने भी बने और एक हिंदी कामेडी फिल्म भी। कहने का आशय यह कि पप्पू कहकर किसी का मजाक उड़ाने का सिलसिला पिछले एक दशक से भारतीय समाज में चल ही रहा है। लेकिन राजनीति में इसके इस्तेमाल पर अब ईसी ने रोक लगाई है, जो सही कदम लगता है। यूं तो लोकतंत्र की राजनीति में विरोधियों पर तंज या कटाक्ष होना आम बात है। लेकिन इस पर कोई अंकुश न होने के कारण यह प्रवृत्ति निजी हमलों और चरित्रहनन तक जा पहुंची है, जो बिल्कुल गलत है। आप अपनी नीतियों, योजनाओं फैसलों से विपक्ष को मुंहतोड़ जवाब दें, तो राजनीति की मर्यादा बनी रहेगी। लेकिन आप किसी के व्यक्तित्व पर हमला करेंगे तो राजनीतिक मर्यादा को तार-तार होने में देर नहीं लगेगी। दुख की बात यह है कि भारतीय राजनीति में इस वक्त मर्यादा का पतन सबसे तेजी से हुआ है दरअसल भारतीय राजनीति के मैदान में जब से सोशल मीडिया का इस्तेमाल शुरु हुआ है, राजनीतिक दंगल के सारे नियमों को ताक पर रख दिया गया है। पप्पू के अलावा, फेेंकू, मफलरमैन, खुजलीवाल, चाराखोर जैसे शब्द राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी एक-दूसरे के लिए इस्तेमाल करते रहते हैं और ट्विटर, फेसबुक पर इन पर चुटकुलों की बाढ़ आ जाती है। स्कूल, कालेज में विद्यार्थी अपने सहपाठियों या शिक्षकों के लिए अक्सर ऐसे नाम गढ़कर कोडवर्ड की तरह उनका इस्तेमाल करते हैं। लेकिन उसमें बचपना होता है। क्या हमारे राजनेता देश संभालने की तैयारी इन बचकानी हरकतों के साथ करना चाहते हैं?

MOLITICS SURVEY

क्या कांग्रेस का महागठबंधन से अलग रह के चुनाव लड़ने की वजह से बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला है?

TOTAL RESPONSES : 12

Caricatures
See more 
Political-Cartoon,Funny Political Cartoon
Political-Cartoon,Funny Political Cartoon

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know