अर्थव्यवस्था के आंकड़ों में छिपा है सरकार का डर!