"मंत्रालय" मारने पर उतारू और DFO साहब उसे बचाने में . . .
Latest Article

"मंत्रालय" मारने पर उतारू और DFO साहब उसे बचाने में . . .

Author: Nilanjay Tiwari calender  04 Mar 2019

 "मंत्रालय" मारने पर उतारू और DFO साहब उसे बचाने में . . .

लोग "अवनी" (बाघिन) को मार रहे थे और ये साहब "बाघों" की प्रजाति को बचाने में लगे थे . . .

बीते दिनों किसी "आम" मुलाकात में किसी खास से मुलाकात हुआ। एक ऐसा सख्श जिसके पास ज्ञान का भंडार है, जो हर बात को बड़ी बारिकी से समझता है, जिसे आप जंगलों का राजा भेल कहें लेकिन हकीकत में वो मिसाल है दुनिया के लिए और इंसानियत का असल चिराग है। पता है क्यों

दरअसल कुछ महीनें पहले जब सत्ताधारियों के चलते व उद्योगपतियों के रसूख की वजह से महाराष्ट्र के जंगल में अवनी (मादा टाइगर) को मारने की कवायद चल रही थी। जब इंसान एक जानवर को मारने के लिए हैवान बन गया था तब कटनी की एक घटना सकारात्मक कहानी बनकर उभरी, जो मुझे बीते दिनों पता चली।

मध्य प्रदेश के एक हिस्से में एक मादा टाइगर को लेकर सियासी खेल शुरू हुआ। छूट भाइयों से लेकर मंत्रालय तक सबने जी जान लगा दिया कि किसी तरह बाघिन को मार दिया जाए। उस बाघिन को जिसने 4 लोगों को घायल कर दिया था कहीं रिहायसी इलाके में नहीं बल्कि जंगल मे ही। यह बात तत्कालीन DFO अजय कुमार पांडेय साहब के संज्ञान में आया और उन्होंने मामले की विवेचना के लिए टीम बनाई और जांच के दौरान पता चला कि कुछ लोग तड़के सुबह जंगल में लकड़ी बीनने घुसे थे। उस समय बाघिन आराम कर रही थी और सुबह सुबह जंगल में लोगो के झुंड को देख उसने हमला कर दिया, सिर्फ हमला। लोगों ने उसे "आदमी भक्षक" बतला कर मारना चाहा जो DFO साहब के हिसाब से उचित नही था। इसकी दो वजह बताई गई

-- वो बाघिन आवासीय क्षेत्र में नही घुसी थी अपने ही जंगल में थी। 
-- बाघिन को मारना इकलौता उपाय नही था। (पहले ही देश में बाघों की गिनती दिन ब दिन कम हो रही है)

DFO साहब ने मंत्रालय से दबाव के बाद भी उस बाघिन को मारने की इजाज़त नही दी बल्कि और ना ही "Man Eater" का टैग लगने दिया। उस बाघिन को "Suspected Man Eater" बताकर बड़े चालाकी उसे मरने से बचाया गया और फौरन पकड़ कर किसी नेशनल पार्क में स्थानांतरित करवा दिया। जिसके बाद अब वो बाघिन वहाँ सुरक्षित है। आज जहां देश में बाघों की संख्या कम हो रही है वहीं इन्हीं जैसे अफसरों के अथक प्रयासों के वजह से सिर्फ मध्य प्रदेश में मौजूदा समय में लगभग 1000 से ज्यादा बाघ अपना एक अलग राज्य बसाए हुए हैं और देश के चिड़िया घरों में वो नजर आ रहे हैं।

देश में बड़े बड़े लोग "देश भक्ति" का टैग लिए घूमते तो रहते हैं लेकिन असल में देश हित में काम करने वाले जंगल में रहते हैं, जनवरों के चिंतक हैं, पेड़ पौधों की जबर ज्ञान रखते हैं, ये मुझे पिछले दिनों पता चला। 

MOLITICS SURVEY

महाराष्ट्र में अगर शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के गठबंधन की सरकार बनती है तो क्या उसका हाल भी कर्नाटक जैसा होगा ?

हाँ
  68.42%
ना
  15.79%
पता नहीं
  15.79%

TOTAL RESPONSES : 38

Caricatures
See more 
Political-Cartoon,Funny Political Cartoon
Political-Cartoon,Funny Political Cartoon

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know