मिलिट्रीलाइज्ड ज़ोन पे हमले की चेतावनी होने के बावजूद इतना बड़ा हमला हुआ कैसे?
Latest Article

मिलिट्रीलाइज्ड ज़ोन पे हमले की चेतावनी होने के बावजूद इतना बड़ा हमला हुआ कैसे?

Facebook calender  18 Feb 2019

मिलिट्रीलाइज्ड ज़ोन पे हमले की चेतावनी होने के बावजूद इतना बड़ा हमला हुआ कैसे?

इंडिया के इंटर्नल सिचुएशन पे एनालिसिस करते वक़्त विज़न क्लियर रखने के लिए इंटरनेशनल पॉवर पॉलिटिक्स के घटनाक्रम की भी स्टडी जरूरी है । भारत और ईरान दोनों के सुरक्षाबल पे हमला 24 घंटे के अंदर हुआ ,दोनों पाकिस्तानी सीमा से सटे हुए देश हैं । ईरान के साथ पाकिस्तान का संबंध ख़राब नहीं है भारत के साथ क्या है हम सबको पता है।

पाकिस्तान आर्थिक संकट से जूझ रहा है। पाकिस्तान दूसरे देशों से आर्थिक मदद की गुहार लगा रहा है।अमेरिका से भी अपने संबंध बेहद ख़राब कर चुका है। । जब इन मुल्कों पे हमले हो रहे थे तब इजरायल का प्रेसिडेंट और अमेरिका का वाइस प्रेसिडेंट दोनों पोलैंड में ईरान को घेरने को लिए कई देशों से बातचीत कर रहा था। इंकलुडिंग गल्फ कंट्रीज़।

अमेरिका वेनेजुएला में तख्तापलट की पूरी कोशिश कर रहा है इसके लिए उसने स्पेशल राजदूत भी नियुक्त कर दिया है। इसी राजदूत के निगरानी में सेंट्रल अमेरिकन देश निकार्गुवा, अल साल्वाडोर और ग्वाटेमाला में तख्तापलट हुआ था। इसी के निगरानी में सिविलियन का भी बड़ी बेहरमी से कतल हुआ था छोटे बच्चीयों का रेप भी हुआ था अल सल्वाडोर के एक गांव में 800 सिविलियन का कतल और मास रेप भी इसके निगरानी में ही हुआ था। इसपर संसद से झूठ बोलने का भी साबित इलजाम है। । वेनेजुएला में दुनिया का सबसे ज्यादा रिजर्व ऑयल है।

ट्रंप मेक्सिको बॉर्डर पे दीवाल खड़ा करने के लिए पागल हुआ जा रहा है। संसद में डेमोक्रेटिक पार्टी मेजोरिटी में है और वह नहीं चाहती कि दीवाल में पैसे बर्बाद किए जाए। इसलिए दीवार खड़ा करने के लिए फंड पास नहीं कर रहा है। ट्रंप अफगानिस्तान और सीरिया से आर्मी वापस बुलाकर इसकी भरपाई करना चाहता है। । वाल की जिद लिए ट्रंप अमेरिका में इमरजेंसी कभी भी लागू कर सकता है ताकि डेमोक्रेटिक पार्टी को मजबुर होकर फंड पास करना पड़े। ट्रंप बॉर्डर वाल को मुद्दा बनाकर ही राष्ट्रपति चुनाव जीता था अगली बार राष्ट्रपति चुनाव जीतने के लिए यह वाल बनाना ही होगा वरना वोटर वादा खिलाफी के वजह से इसके खिलाफ वोट कर सकता है।

इसी हफ्ते अमेरिका में इजरायली लॉबी का अमेरिका में दखल पे इलहान ओमर ने बहस छेड़ दिया इससे पहले हर अमेरिकन एमपी इस बहस से बचता था। । इन सारे पॉइंट्स लिखने का मतलब यह है के ईरान को इजरायल हर हाल में अलग थलग करना चाहता है जिसके लिए पाकिस्तान और ईरान की दुश्मनी भी होना जरूरी है।

अमेरिका और इजरायल को अपने मकसद में कामयाब होने के लिए पैसा चाहिए और पैसा आएगा हथियार बेचकर। हथियार बेचने के लिए बड़े मार्केट चाहिए जो खुद हथियार नहीं बनाता हो। । दुनिया में भारत, पाकिस्तान और गल्फ कंट्रीज़ से बड़ा हथियार खरीदने वाला कोई देश नहीं है। यही देश सबसे ज्यादा हथियार पे पैसा लगाते हैं। यह देश तभी हथियार खरीदेंगे जब इनका पड़ोसियों से बेहद संबंध ख़राब हो जंग की हालत हो। ।

ये बस पॉइंट्स हैं कंक्लुजन आप लोग निकालिए कि आखिर दुनिया का सबसे ज्यादा सिविल इलाके का मिलिट्रीलाइज्ड ज़ोन पे हमले की चेतावनी होने के बावजूद इतना बड़ा हमला हुआ कैसे?

MOLITICS SURVEY

महाराष्ट्र में अगर शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के गठबंधन की सरकार बनती है तो क्या उसका हाल भी कर्नाटक जैसा होगा ?

TOTAL RESPONSES : 8

Caricatures
See more 
Political-Cartoon,Funny Political Cartoon
Political-Cartoon,Funny Political Cartoon

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know