बुलेट ट्रेन तो ठीक है, पर सामान्य ट्रेनों के हादसों का क्या?