"सज्जन" तो अगुआ था, शहर तो "खाकी" जला रही थी !!

Author :- Nilanjay Tiwari